What is SIP – SIP क्या है | SIP Full Form

What is SIP – SIP क्या है | SIP Full Form

SIP क्या है

What is SIP – SIP क्या है | SIP Full FormSIP meaning in hindi

अगर आप म्यूचूअल फंड (Mutual Fund) में निवेश करने के बारे में सोच रहें तो आपने SIP investment के बारे में जरूर सुना होगा यदि आपको नहीं पता है की SIP investment क्या होता है तो इस पोस्ट को पूरा पढ़ कर आप जन जाएंगे।

What is SIP – SIP क्या है | SIP Full Form

SIP का पूरा नाम Systematic Investment Plan (सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) है जिसे हिन्दी में व्यवस्थित निवेश योजना या सिप भी कहते हैं।

Systematic Investment Plan म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने का एक तरीका है जिसके तहत आप एक साथ पूरी रकम निवेश करने के वजाय कुछ समय अंतराल के बाद निश्चित रकम का निवेश करते हैं यह समय अंतराल आमतौर पर साप्ताहिक, मासिक और त्रैमासिक होता है।

SIP में एक बार निवेश शुरू करने पर उसके निश्चित समय अंतराल पर आपके अकाउंट से पैसे स्वतः ही काट लिए जाते है SIP में न्यूनतम 500 रुपये से निवेश शुरू कर सकते हैं। और अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं होती है, यह म्यूचूअल फंड में निवेश का सबसे आसान तरीका है।

SIP के फायदे (SIP Benefits in Hindi)

  • आसान निवेश – SIP में निवेश करना बहुत आसान होता है कई बैंक अपनी वेबसाईट से ही SIPमें निवेश की सुविधा देते है जिसमें एक बार निवेश करने पर हर महीने आपके बैंक से पैसे खुद ही निवेश में चले जाते हैं
  • छोटा निवेश – SIP निवेश में आप एक साथ पूरी रकम देने के वजय हर महीने कुछ राशि देते हैं SIP में आप न्यूनतम 500 रुपये महीने से निवेश कर सकते हैं।
  • अधिक ब्याज – SIP में निवेश में अक्सर आपको FD या RD की तुलना में ब्याज अधिक मिलता है अगर आप लंबे समय के लिए निवेश करते हैं तो आपका फायदा अधिक होता है उदाहरण के लिए यदि आप 1000 रुपये प्रतिमाह 10 साल के लिए निवेश करते हैं और आपको इसमें ब्याज 10 प्रतिशत मिलता है तो दस साल बाद आपको ₹206,552 मिलेंगे , जिसमें आपने सिर्फ ₹120,000 निवेश किए हैं और ₹86,552 का आपको रिटर्न मिल है
  • कम जोखिम – म्यूचूअल फंड में निवेश करना हमेशा जोखिमों से भरा होता है लेकिन SIP के द्वारा निवेश करने से जोखिम बहुत कम हो जाता है।
  • टैक्स में छूट – SIP में निवेश करने पर निवेश की गई राशि पर टैक्स में छूट मिलती यदि निवेश टैक्स की छूट देने वाले स्कीमों में लॉक इन पीरियड जैसे 2 साल , 3 साल से अधिक के लिए किया जाए।
  • SIP से कभी भी पैसे निकाल सकते है – ज्यादातर SIP स्कीम में कोई लॉक इन पीरीअड नहीं होता है जिनसे आप कभी भी सारे या कुछ पैसे निकाल सकते है और SIP को कभी भी बंद कर सकते हैं।

FAQ (Frequently Asked Questions) about SIP

  • SIP क्या है?

    Ans – SIP म्यूचूअल फंड, शेयर बाजार आदि में निवेश करने का एक तरीका है।
  • SIP का फुल फॉर्म क्या है?

    Ans –Systematic Investment Plan
  • SIP में निवेश कैसे कर सकते हैं?

    Ans – कई बैंक सीधे बैंक की वेबसाईट से नेटबँकिंग के द्वारा निवेश की सुविधा देते हैं इसके अलावा कई अन्य वेबसाईट और एप हैं जिनके द्वारा आप निवेश कर सकते हैं।
  • SIP में कितने रुपये से निवेश कर सकते हैं?

    Ans – SIP में न्यूनतम 500 रुपये महीने से निवेश शुरू कर सकते हैं?
  • SIP में निवेश की अधिकतम सीमा कितनी है?

    Ans – SIP में निवेश की कोई अधिकतम सीमा नहीं है।
  • क्या SIP में निवेश की गई धन राशि पर टैक्स लगता है ?

    Ans – SIP पर टैक्स लगेगा या नहीं यह इस पर निर्भर करता है की आपने किस स्कीम के तहत निवेश किया है अक्सर टैक्स में छूट देने वाली स्कीम में कुछ समय का लॉक इन पीरीअड (सामान्यतः 3 साल , 5 साल) होता है जिससे पहले आप SIP से पैसे नहीं निकाल सकते हैं इस स्थिति में आपको टैक्स से छूट मिलती है।
  • क्या SIP में बैंक से अधिक ब्याज मिलता है?

    Ans – SIP का ब्याज शेयर बाजार के उतार – चड़ाव पर ही निर्भर करता है लेकिन अधिकतर स्थितियों में SIP पर मिलने वाला ब्याज बैंक के ब्याज से अधिक ही होता है लेकिन शेयर बाजार में निवेश में जोखिम भी बहुत होते हैं जिसमें कभी – कभी बैंक से कम ब्याज भी मिल सकता है।

यह भी पढे..
What is PF, EPF, EPFO Full Form in Hindi

Leave a Comment